गौ कृपा अमृतम (बेक्टीरियल कल्चर)

गो-कृपा अमृतम प्राकृतिक पंचगव्य और अन्य जड़ी-बूटियों के उपयोग से बनाया गया बेकटेरियल कल्चर है, जो हमारे विस्तृत अनुसंधान और परीक्षण का परिणाम है। यह कल्चर बंसी गीर गोशाला द्वारा किसानों को निःशुल्क दिया जा रहा है।

वेदों में स्पष्ट रूप से कहा गया है की जैसी गोमाता की स्थिति वैसी हमारी स्थिति। हमारे गुरुदेव भी स्पष्ट रूप से कहते थे की जब तक गाय और किसान दुखी हैं तब तक देश कभी खुश नहीं रह सकता। बहुत विचार, अनुसंधान और परीक्षण के बाद,  गुरु गोविंद और गोमाता के आशीर्वाद से हमने एक बहुत ही सरल और सस्ती पद्धति विकसित की है। हमारा विश्वास है कि यह पद्धति किसी भी किसान को आत्म-सम्मान के साथ सफलतापूर्वक खेती करने में सक्षम बनाएगी। इस विधि को गोमाता के प्रसाद यानि गो-कृपा अमृतम बेकटेरियल कल्चर की मदद से संभव बनाया गया है।

गो-कृपा अमृतम के लाभ (संक्षिप्त में) -
१) धरती में मित्र सुक्ष्म कीटाणुओं का संचार होता है - वनस्पति की रोग प्रतिकारक शक्ति और गुणवत्ता बढ़ती है।
२) वनस्पति को धरती, गोमय और गोमूत्र से पोशक तत्व सरल सुपाच्य स्वरुप में उपलब्ध होते है और केचुओं की वृद्धि होती है।
३) धरती अधिक नरम बनती है - बारिश का पानी अधिक सोख लेती है - धरती में भूजल का प्रमाण बढ़ता है।
४) किसान कम से कम खर्च कर के स्वाभिमान से गौ आधारित खेती कर सकता है।


गोमाता आधारित स्वस्थ और समृद्ध 'जीवन चक्र'


हमारे संस्थापक - श्री गोपालभाई सुतारिया (बंसी गीर गोशाला)

हमारे संस्थापक श्री गोपालभाई सुतरिया ने अपना जीवन भारत की गोसंस्कृति को पुनर्जीवित करने के लिए समर्पित किया है। अपने आध्यात्मिक गुरुजी श्री परमहंस हंसानंदतीर्थ दंडीस्वामी के प्रभाव में , अपने जीवन में प्रारंभिक समय से वह राष्ट्र और मानवता की सेवा करने के लिए जीवन बिताने के अभिलाषी थे। वे .स. २००६ में अहमदाबाद आए और बंसी गीर गोशाला की स्थापना की।

गोपालभाई के प्रयासों के परिणामस्वरूप बंसी गीर गोशाला गोपालन और गोकृषि के क्षेत्र में प्रयोग, प्रशिक्षण और अनुसंधान का एक उत्कृष्ट केंद्र बन गई है। स्वस्थ नागरिक, स्वस्थ परिवार, स्वस्थ भारत के उद्देश्य से, बंसी गीर गोशाला आयुर्वैदिक उपचार के क्षेत्र में प्रभावशाली अनुसंधान और निर्माण का कार्य भी कर रही है।

बंसी गीर गोशाला - योजनाए और गतिविधियां


नंदी गीर योजना

भारतीय गीर नस्ल के सुधार के लिए, गोशाला इस योजना के तहत अन्य विश्वसनीय गोशालाओं और गांवों को नंदी निःशुल्क प्रदान करती है।(अधिक पढे)


जिंजवा घास योजना

जिंजवा घास भारतीय गोवंश को बहुत प्रिय है। बंसी गीर गोशाला में इछूक किसानों के लिए जिंजवा घास के पौध की निःशुल्क व्यवस्था की जाती है। (अधिक पढे)


गो आधारित प्राकृतिक खेती और प्रशिक्षण

हर दिन भारत के विभिन्न क्षेत्रों से किसान बंसी गीर गोशाला आते हैं और गोपालन और गो-कृषि के बारे में निःशुल्क ज्ञान अथवा प्रशिक्षण प्राप्त करते  हैं। (अधिक पढे)


गौ कृपा अमृतम बेकटेरियल कल्चर

गो-कृपा अमृतम बैक्टीरियल कल्चर बंसी गीर गोशाला द्वारा पंचगव्य और और आयुर्वेदिक औषधि के उपयोग से बनाया गया बेकटेरियल कल्चर है जो कृषि में अत्यंत उपयोगी सिद्ध हुआ है। (अधिक पढे)

गौ कृपा अमृतम का प्रभाव

सक्रिय राज्य
२२+
फसल में सफल परिणाम
६०+
कृषि समुदाय
७,००,०००+
उपभोक्ताओं को लाभ
६,९१,७०,३७०+
जीवाणु की मात्रा / १ ग्राम मिट्टी (१९८० में)
२ करोड़+
जीवाणु की मात्रा / १ ग्राम मिट्टी (वर्तमान काल)
< ४० लाख
मित्रा जीवाणु की मात्रा / १ मिली गो-कृपा अमृतम
२.६ लाख
७ दिनों के बाद मित्र जीवाणु की मात्रा / १ मिली
३.६ करोड़
गो-कृपा में विविध मित्र जीवाणुओं के प्रकार
५०+
गौ कृपा अमृतम कल्चर की क़ीमत
०.०० रुपए
गौ कृपा अमृतम - किसान को १ लीटर बनाने में खर्च
०.५० रुपए
गोमाता / एकड़ (अनुशंसित)
१ गोमाता

संबंधन

इस मिशन से कौन जुड़ सकता है?

किसान.    स्वयंसेवक .    एनजीओ / ट्रस्ट .    सामाजिक कार्यकर्ता .    प्रभावक